सुकन्या समृद्धि योजना – Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi

Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi – मोदी सरकार द्वारा की गयी सुकन्या समृद्धि योजना की शुरुआत एक छोटी रकम है। ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ ‘ अभियान के दरमियान इसे शुरू किया गया था। यह स्कीम बेटियों की शिक्षा और उनके शादी-बियाह के लिए रकम जुटाते है। अभी इस स्कीम के दौरान ८.१ की फीसदी मे ब्याज मिलता है।

Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi
Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi

Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi

Income Tax कानून के सेक्शन 80 c के तहत सुकन्या समृद्धि योजना मे निवेश करने पर टैक्स की छूट मिलती है। मतलब साल का १.५ लाख रूपए के निवेश पर आप टैक्स के छूट पर अपना फायदा उठा सकते है। सुकन्या समृद्धि से मिलने वाला रिटर्न टैक्स भी फ्री है। 31 march तक सुकन्या समृद्धि योजना स्कीम मे निवेश करने पर आप इस साल के लिए टैक्स का फायदा उठा सकते है।

Read More:- Janani Suraksha Yojana in Hindi

बेटी का उम्र 10 साल होने के पहले आप कभी भी सुकन्या समृद्धि का खाता खुलवाया जा सकता है। सुकन्या समृद्धि खाता मे 250 रूपए से खुल जाता है। पहले इसके लिए 1000 रूपए देने पड़ते थे। कोई भी साल मे सुकन्या समृद्धि मे ज्यादातर १.५ लाख रूपए भी जमा कर सकते है।

सुकन्या समृद्धि खाता किसी भी पोस्ट ऑफिस या किसी बैंक की शाखामे भी खुलवाया जा सकता है। सुकन्या समृद्धि के खाता के खुलने के बाद ये 21 साल तक चालू रखा जा सकता है। अगर माता -पिता चाहे तो 18 साल की उम्र मे बेट की शादीहोने तक इसे चला सकते है।

बेटी की उम्र 18 साल के हो जाने पर उसे उच्च शिक्षा के लिए सुकन्या समृद्धि खातेसे 50 %तक की रकम निकली जा सकती है।

सुकन्या समृद्धि खाता खोलने के नियम क्या है ?

सुकन्या समृद्धि खाता बेटी के माता -पिता या कानूनी अभिभावक के नाम से खुलवाया जा सकता है। इसे बेटी के जन्म से उसके 10 साल तक होने तक खुलवाया जा सकता है। नियमो के अनुसार, एक बची के लिए सिर्फ एक ही खाता खुवाया जा सकता है और उसमे भी पैसा जमा किया जा सकता है। मतलब एक बच्ची के लिए सिर्फ एक ही खाता खुलवाया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाते समय बेटी का birth certificate पोस्ट ऑफिस या बैंक मे देना जरुरी है। इसके साथ ही बेटी और अभिभावक के पहचान और जगह का प्रमाण भी देना पड़ता है।

कितनी रकम जमा कर सकते है ?

सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाने के लिए 250 रूपए ही काफी है। फिर उसके बाद 100 रूपए के गुणक (मल्टीप्ल)मे पैसा जमा कार्य जा सकते है। कोई एक वर्ष मे कम से कम 250 रूपए जरूर जमा करने पड़ते है। इसे तरह एक बार या कई बार ज्यादातर १.५ लाख रूपए ही सुकन्या समृद्धि खाते मे जमा करए जा सकते है।

सुकन्या समृद्धि खाता खुलने के दिन से 15 साल तक पैसा जमा कर सकते है। अगर बेटी 9 साल की हो उसकी मामले मे उसके 24 साल के हो जाने तक पैसे जमा कराए जा सकते है। बेटी के 24 से 30 साल के होने तक सुकन्या समृद्धि खाते मे जमा हुए रकम पर हमें ब्याज मिलता है।

सुकन्या समृद्धि खाते मे न्यूनतम जमा नहीं होने पर वह अनियमित हो जाता है। इसे 50 रूपए पेनाल्टीदेकर नियमित कराया जा सकता है। इसके साथ ही हर साल के लिए कम से कम कराए जाने वाले रकम भी खाते मे डालना पड़ेगा।

पेनाल्टी न चुकाने पर सुकन्या समृद्धि खाते मे जमा कराए रकम पर पोस्ट ऑफिस के सेविंग अकाउंट मे बराबर ब्याज मिलेगा। यह अभी करीब 4 फिसदी है। अगर सुकन्या समृद्धि खाते मे ज्यादा ब्याज चुकाया गया है तो उसे रिवाइज़ किया जा सकता है

सुकन्या समृद्धि खाते मे कैसे रकम जमा कर सकते है ?

सुकन्या समृद्धि खाते मे कैश,चेक, डिमांड ड्राफ्ट या ऐसे किसी instrument से रकम जमा कराए जा सकता है जिसे की बैंक स्वीकार करता हो। इसके लिए जो बैंक मे पैसा जमा कराता है और खाताधारक का नाम लिखना जरुरी है।

सुकन्या समृद्धि खाते मे इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर मोड से भी पैसा जमा कराया जा सकता है। शर्त यह होना चाहिए की पोस्ट ऑफिस या बैंक मे कोर बैंकिंग सिस्टम मौजूद हो। अगर सुकन्या समृद्धि खाते मे चेक या ड्राफ्ट से पैसे जमा किये जाते है तो उसे क्लियर होने के बाद से उस पर ब्याज दिया जायेगा। हलाकि ई- ट्रांसफर के मामले मे डिपाजिट के दिन से यह कैलकुलेशन होगा।

ब्याज कैसे कैलकुलेट करते है ?

सरकारी बॉन्ड की यील्ड के आधार पर सरकार तिमाही दर तय करती है। सुकन्या समृद्धि खाते पर ब्याज दर सरकारी बॉन्ड की तुलना मे 0.75 फीसदी तक अधिक होता है।

सुकन्या समृद्धि योजना मे अब तक दिया गया ब्याज

१. 1 अप्रैल ,2014 :9.1%
२. 1 अप्रैल, 2015 :9.2%
३.1 अप्रैल, 2016 -30 जून ,2016 :8.6 %
४.1 जुलाई ,2016 -30 सितम्बर ,2016 :8.6 %
५.1 अक्टूबर, 2016 -31 दिसंबर ,2016 : 8.5%
६.1 जुलाई ,2017 -31 दिसंबर ,2017 : 8.3 %
७ 1 जनवरी , 2018 -31 मार्च , 2018 :8.1%
८. 1 अप्रैल , 2018 -30 जून , 2018 :8 .1%
९. 1 जुलाई , 2018 -30 सितम्बर ,2018 : 8.1%
१०.1 अक्टूबर ,2018 -31 दिसंबर,2018 :8.5%
११.1 जनवरी,2019 -31 मार्च ,2019 :8.5%

सुकन्या समृद्धि खता किन स्थितियों मे समय से पहले बंद हो जाता है ?

अगर खाताधारक का मृत्यु हो गयी हो तो उसका मृत्यु प्रमाण पत्र दिखा कर खाता बंद करवा सकते है। उसके बाद सुकन्या समृद्धि खाते मे जो रकम है उसे बेटी के अभिभावक को ब्याज सहित वापस दी जाएगी।

इसके आलावा सुकन्या समृद्धि खाता खुलने से 5 साल बाद खाते को बंद किया जा सकता है। यह भी खास स्थितियो मे किया जा सकता है। मतलब किसी जानलेवा बीमारी के मामले मे, इसके बाद भी अगर किसी दूसरे कारण से सुकन्या समृद्धि खाता बंद किया जाता है तो उनको इसकी परवानगी मिलती है।लेकिन, रकम ब्याज सेविंग अकाउंट के हिसाब से मिलेगा।

क्या सुकन्या समृद्धि खाता ट्रांसफर हो सकता है ?

हा,ये संभव है। सुकन्या समृद्धि अकाउंट देशभर मे कही भी ट्रांसफर हो सकता है। शर्त ये है की जिस बेटी के नाम से ये सुकन्या समृद्धि का खाता खुला है वह एक जगह से दूसरे जगह शिफ्ट हो रही है।

ट्रांसफर के दौरान कोई फीस नहीं लगता है। इसके लिए सुकन्या समृद्धि अकाउंट होल्डर या उसके माता-पिता/अभिभावक के शिफ्ट होने का सबूत दिखन पड़ता है।
अगर इस तरह का कोई भी सबूत नहीं दिखाया गया तो सुकन्या समृद्धि अकाउंट ट्रांसफर के लिए पोस्ट ऑफिस या बैंक को हमें 100 रूपए भी चुकाना पड़ सकता है, जहा पर हमने खाता खुलवाया है।

सुकन्या समृद्धि खाते से आंशिक निकासी के नियम क्या है?

खाताधारक की वित्तीय जरूरतें पूरी करने के लिए खाते से आंशिक निकासी की जा सकती है। जिसमे की उच्च शिक्षा और शादी जैसे कार्य भी शामिल है।इसमें सुकन्या समृद्धि खाते मे पिछले वित्त वर्ष के अंत तक जमा हुए रकम का 50 फीसदी निकला जा सकता है। खाते मे ये निकासी तब तक संभव है जब तक अकाउंट होल्डर 18 साल की उम्र पार कर ले।


सुकन्या समृद्धि अकाउंट मे से रकम निकालने के लिए एक लिखित आवेदन और किसी शैक्षणिक संस्थानमे एडमिशन ऑफर या फीस के स्लिप की जरुरत होती है।

Read More:- How To Check Email Is Valid Or Not?

क्या NRI बेटी के नाम से सुकन्या समृद्धि खाता खुलवा सकते है ?

यह स्कीम का लाभ बस भारत मे रहने वाली बेटियों को ही मिलता है। मतलब की अनिवाशी भारतीय ये खाता नहीं खुलवा सकते है। हलाकि,स्कीम की अवधि के दौरान यदि बेट की नागरिकता बदलती है,तो उसे दिन से सुकन्या समृद्धि खाते मे ब्याज मिलाना बंद हो जायेगा, जिस दिन से नागरिकता के दर्जे मे बदलाव होगा।

सुकन्या समृद्धि स्कीम मे टैक्स बेनिफिट क्या है ?

सुकन्या समृद्धि स्कीम को एक्जेम्पट-एक्जम्पट-एक्जेम्पट का दर्जा मिलता है। मतलब सुकन्या समृद्धि योजना मे किये जाने वाले निवेश पर टैक्स से मिलाने वाली छूट के साथ इससे मिलाने वाला रिटर्न भी टैक्स फ्री होता है।

अगर आपको हमारा ये Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi Article पसंद आया हो तो Please Do Like and Share.

Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi

Read More:-

Pradhanmantri Matru Vandana Yojana
Pradhanmantri Matru Vandana Yojana

Leave a Reply