प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना – Pradhanmantri Matru Vandana Yojana

Pradhanmantri Matru Vandana Yojana – भारत सरकार ने मातृत्व सहयोग योजना का नाम को चेंज करके इसे प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का नाम रख दिया। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा गर्भवती और स्तनपान करने वाली माताओ को पहले जीवित जनम के लिए 6000 रूपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। बहुत सारे केंद्रीय सरकार की कल्याणकारी योजनाओ के समान सरकार ने इस योजना के नाम मे भी प्रधानमंत्री का शब्द प्रयोग किया है।

Read More: – प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इस योजना को और ज्यादा आकर्षक बनाने के लिए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का नया नाम दिया है। स्त्री और बाल कल्याण विभाग के अनुसार पहले की गर्भावस्था सहायता योजना पहले इतनी सफल नहीं थी, यहाँ तक की बहुत सारे लोग इस बारे मे जानते भी न थे।

केंद्रीय सरकार द्वारा बहुतचर्चित प्रधानमंत्री मातृ वंदना को देश के राज्यों /जिलों मे लागू कर दिया है। इस मातृ वंदन के दौरान केंद्र सरकार द्वारा देश मे महिलाओं को इसका लाभ प्रदान किया जायेगा। इस योजना का उदेश्य देश की गर्भवती स्त्रीओ को आर्थिक सहायता प्रदान करना है।

इस योजना के अनुसार केंद्र सरकार पहली बार गर्भवती होने पर सबके खाते मे पोषण के लिए 5000 रूपए प्रदान करेगी। इस योजन से सभी आय वर्ग की गर्भवती महिलाओ को पात्र बनाया जायेगा। यह महिला योजना का लाभ देश के सभी जिलों मे यह योजना 01 जनवरी 2017 से ही लागू होगी। मतलब 31 अक्टूबर 2017 के पहले वह 1 जनवरी 2017 के बिच मे जिन गर्भवतियों की डिलेवरी हो चुकी है , उनको भी इस योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा।

Pradhanmantri Matru Vandana Yojana
Pradhanmantri Matru Vandana Yojana

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का उद्देश्य

वैसे तो, गर्भावस्था सहायता योजना बहुत तरीको से गर्भवती महिलाओ को मदद करेगी, लेकिन इस योजना के दो प्रमुख्य उद्देश्य है

  1. काम करनेवाली महिलाओं की मजदूरी के नुक्सान की भरपाई करने के लिए मुआवज़ा देना और उनके उचित आराम और पोषण का ख्याल रखना उन्हें सुनिश्चित करना।
  2. गर्भवती महिलाओं और स्तनपान करने वाली माताओं के स्वस्थ्य के सुधार और नकदी प्रोत्साहन के माध्यम से अधीन पोषण के effect को भी काम करना है।

पीएम मातृ वंदना योजना की मुख्या बातें

  1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी द्वारा पीएम मातृ वंदना योजना को जनवरी 2017 में शुरू किया गया था। इस योजना के तहत गर्भवतियों को पौष्टिक आहार के लिए सीधे उनके खातों में उक्त सहायता राशि भेजी जायेगी।
  2. इस योजना पर सीधे प्रधानमंत्री और राज्यों के मुख्यमंत्री निगरानी रखेंगे।
  3. प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, राष्ट्रीय स्वस्थ्य मिशन दोनों योजनाओं से प्रथम बार गर्भवती होने वाली ग्रामिड महिला के खाते में कुल 6400 रूपये और शहरी गर्भवती के खातों में कुल 6000 रूपये तक पहुचाये जाएंगे।

  1. इस योजना के द्वारा पात्र गर्भवती महिलाओं को पहली क़िस्त में एक हज़ार रूपये गर्भ के 150 दिनों के भीतर, दूसरी क़िस्त में 2000 रूपये 180 दिनों के भीतर तथा तीसरी क़िस्त में 2000 प्रसव के बाद तथ शिशु क्र पहले टीकाकरण चक्र पूरा होने पर मिलेगा।
  2. इन योजनाओ का लाभ उठाने के लिए अपने नजदीकी स्वस्थ्य केंद्र पर गर्भवतियों को अपना आधार खता नंबर देना होगा।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लाभ

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को सर्वप्रथम जीवित बच्चे के जन्म के दौरान फायदा होगा। योजना की लाभ राशि DBT के द्वारा लाभार्थी के बैंक खाते में direct भेज दी जायेगी। Report के अनुसार, सरकार निम्नलिखित किस्तों में राशि का भुगतान करेगी।

  • पहली क़िस्त

1000 रूपये गर्भावस्था के पंजीकरण के समय दी जायेगी।

  • दूसरी क़िस्त

अगर लाभार्थी 6 महीने की गर्भावस्था के बाद एक प्रसवपूर्ण जांच कर लेते हैं तो 2000 रूपये दिए जाएंगे।

  • तीसरी क़िस्त

जब बची का जन्म पंजीकृत हो जाता है और बच्चे को BCG, OPB , DPT , और हेपेटाइटिस-B साथ पहले टीका का चक्र शुरू होता है।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना निम्न श्रेणी के गर्भवती महिलवाओं और स्तनपान करने वाली माताओं के लिए लागू नहीं की जायेगी।

  1. जो केंद्रीय अथवा राज्य सरकार अथवा किसी सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के साथ नियमित रोजगार में है।
  2. जो किस अन्य योजना या कानून के तहत सामान फायदा प्राप्तकर्ता है।

योजना के लाभ :

इस योजना से गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को पहले जीवित बच्चे के जन्म के दौरान फायदा होगा। योजना की लाभ राशि DBT के माध्यम से लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे भेज दी जाएगी। रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार निम्नलिखित किश्तों में राशि का भुगतान करेगी।
पहली किस्त: 1000 रुपए गर्भावस्था के पंजीकरण के समय
दूसरी किस्त: 2000 रुपए,यदि लाभार्थी छह महीने की गर्भावस्था के बाद कम से कम एक प्रसवपूर्व जांच कर लेते हैं ।
तीसरी किस्त: 2000 रुपए, जब बच्चे का जन्म पंजीकृत हो जाता है और बच्चे को BCG, OPV, DPT और हेपेटाइटिस-B सहित पहले टीके का चक्र शुरू होता है ।

इस योजना का कार्यान्वयन जनवरी 2017 और मार्च 2017 के बीच होगा, और इसका कुछ बजट 12661 करोड़ रूपये होगा। इस योजना के 12661 करोड़ कुल रूपये में से 7932 करोड़ रूपये केंद्र सरकार द्वारा वहन किये जाएंगे, जबकि शेष राशि से सम्बन्धित राज्य सरकारों द्वारा वहन की जायेगी।

आवेदन कैसे करें?

आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का संचालन किया जाता है। महिलाएं वहां जा कर के इस योजना के लिए पंजीकरण करा सकती हैं।

स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों पर भी प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए पंजीकरण कराया जा सकता है। इसमें आशा कार्यकर्ता मदद करती हैं।

आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेज

  • आधार कार्ड की फोटोकॉपी
  • बैंक या पोस्ट ऑफिस खाता की पासबुक
  • आधार न होने पर पहचान संबंधी अन्य विकल्प
  • पीचएसी या सरकारी अस्पताल से जारी स्वास्थ्य कार्ड
  • सरकारी विभाग/कंपनी/संस्थान से जारी कर्मचारी पहचान पत्र

Pradhanmantri Matru Vandana Yojana

Read More:-

MS Word course App

MS Word course app
MS Word course app

Leave a Reply