Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi मुद्रा योजना की जानकारी

Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi – भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के विकास के लिए बहुत सी योजनाएं लागू किये जिनमे से कुछ प्रमुख योजनाए :जान-धन योजना, प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना, स्वच्छ भारत अभियान, कौशल विकास योजना आदि है।

escort bursa
antalya escort bayan
görükle escort bayan
istanbul escort bayan
bursa
bursa escort bayan
izmit escort
görükle escort
eskişehir escort bayan
istanbul escort bayan

porno izlegaziantep escort

 

telefonda sex

भारत में स्वरोजगार को बढ़ने के लिए प्रधानमंत्री ने 8 अप्रैल 2015 को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की। इस योजना के अंतर्गत गरीबो को अपना कारोबार चलाने के लिए ऋण प्रदान किया जाएगा।प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) का प्रमुख उद्देश्य कुटीर उद्योगों को और अधिक विकसित करके रोजगार के स्तर को बढ़ाना है।

Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi

 

Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi

प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना क्या है? – मुद्रा योजना की जानकारी

(Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi) प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की घोषणा 8 अप्रैल 2015 को भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा सिडबी बैंक की रजत जयंती के अवसर पर की गई थी। मुद्रा का पूरा नाम माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एवं रिफाइनेंस एजेंसी या सूक्ष्म इकाई विकास पुनर्वित्त एजेंसी है। इस प्रकार की योजना छोटे कारोबारियों को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) सभी छोटी वित्त संस्थाओं जो की कुटीर उद्योगों को विनिर्माण व्यापार एवं सेवा गतिविधियों के लिए ऋण प्रदान करते हैं के विकास और पुनर्वि के लिए जिम्मेदार है।

Read More:-  प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

इस योजना के अंतर्गत मुद्रा बैंक की स्थापना संवैधानिक संस्था के रूप में की गई है जो अपने शुरुआती चरणों में सिर्फ बैंक की इकाई के रूप में कार्य कर रही है यह प्रधानमंत्री योजना में ₹1000000 तक का ऋण प्रदान करेगी।

मुद्रा बैंक की रूपरेखा और कार्य प्रणाली क्या है?

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने लघु उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए मुद्रा बैंक की स्थापना की जिसके अंतर्गत सभी प्रकार के छोटे स्तर के व्यापारियों को ऋण प्रदान किया जाएगा।इस योजना में ब्याज की दर 1.5% से 2% तक कम हो सकती है।मुद्रा बैंक के कामकाज की रूपरेखा के बारे में फैसला लेने के लिए संबंधित हित कारकों की बैठक का आयोजन किया गया था वित्तीय सेवा विभाग में सचिव डॉ. हसमुख अधिया की अध्यक्षता में यह बैठक आयोजित हुआ था।

जिसने संस्थानों एन.बी.एफ.सी बैंक को नाबार्ड सिडबी और आरबीआई समेत सभी कारकों के प्रतिनिधि गण उपस्थित हुए थे। मुद्रा बैंक के कामकाज से जुड़ी वास्तविक रूप रेखा मुद्रा बैंक का औपचारिक शुभारंभ होने के बाद तय की गई थी। सूत्रों की माने तो मुद्रा बैंक पंजीकृत छोटे उद्योगों को सीधे तौर पर ऋण प्रदान करेगी। मुद्रा बैंक अलग-अलग एनजीओ की सहायता भी ले सकती है। सूत्रों की माने तो मुद्रा बैंक सभी राज्य में अपनी शाखा भी स्थापित कर सकती है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के आवेदन के लिए जरूरी कागजात क्या होने चाहिए?

इस योजना के अंतर्गत ऋण प्राप्त करने की इच्छुक व्यक्ति यह जरूर सोच रहे होंगे कि आप हमें कौन-कौन से दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी? आइए हम आपको अपने आर्टिकल में प्रधानमंत्री मुद्रा लोन प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की विस्तृत जानकारी देंगे ।

  • सबसे पहले हम आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मुद्रा लोन प्राप्त करने के लिए आपको अपने पहचान के लिए आधार कार्ड देना आवश्यक होगा।
  • जो भी बिजनेस शुरू करने की आप सोच रहे हैं आपको उसका प्रपोजल जमा कराना होगा।
  • आवेदक को अपना स्थाई निवास प्रमाण पत्र देना होगा अर्थात रेसिडेंस प्रूफ
  • आवेदक को अपना हाल ही में लिया गया पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ भी देना होगा।
  • आवेदक को अपने बिजनेस से संबंधित जो भी उपकरण या मशीनें चाहिए उनका कोटेशन प्रस्तुत करना होगा अर्थात कोटेशन ऑफ बिज़नेस एंड अदर मशीनरी टू बी पर्चासेड
  • मशीन या उपकरण सप्लाई करने वाले नाम या मशीनों का रेट( सप्लायर और प्राइस ऑफ द मशीनरी)
  • बिजनेस का आईडेंटिटी या एड्रेस प्रूफ
  • जाति प्रमाण पत्र भी जमा कराना पड़ेगा।

मुद्रा बैंक योजना के तहत लोन को तीन भागों में विभाजित किया गया है। यह तीन भाग शिशु लोन, किशोर लोन,और तरुण लोन है।

PM Mudra Yojana

 

PM Yojana

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत उपलब्ध ऋणों के प्रकार और ऋण की अधिकतम सीमा

इस योजना के अंतर्गत स्थापित मुद्रा बैंक द्वारा खोली निर्माण इकाइयों और दुकानदारों को ऋण प्रदान करने के साथ ही सब्जी वालों,सैलून,खोमचे वालों को भी ऋण प्रदान किया जाएगा। इस योजना में प्रति क्षेत्र के अनुसार योजना का निर्माण होगा। इसे तीन प्रकार के ऋण देने के लिए वर्गीकृत किया गया है:

  • शिशु ऋण:- इस योजना के अंतर्गत 50000 तक का ऋण दिया जाएगा। व्यापार शुरू करने के लिए पहले चरण पर प्रदान किया जाता है। इसके लिए किसी भी ऋणाधार की जरूरत नहीं होती। यहां तक कि ऋण प्रक्रिया का भी कोई शुल्क अदा नहीं किया जाता है। इसलिए ब्याज दर प्रतिमा 1% होगी और इसके भुगतान की अधिकतम सीमा 5 साल होगी।

  • किशोर ऋण:-इस योजना के अंतर्गत 50000 से 500000 तक की धनराशि का ऋण प्रदान किया जाएगा।

  • तरुण ऋण:- इस योजना के अंतर्गत 500000 से 1000000 की धनराशि तक का ऋण दिया जाएगा।

मुद्रा लोन लेने की पात्रता क्या है?

  • इस आर्टिकल में हम आपको इसकी पूरी जानकारी प्रदान करेंगे। मुद्रा बैंक योजना (PMMY) के तहत लाभ उठाने वाले जो भी व्यवसायिक इकाइयां पेशेवर हैं, उनको सबको शामिल किया जाएगा।
  • इनमें छोटे-छोटे दुकानदार, फल बेचने वालों, सब्जी, ब्यूटी पार्लर, साइकिलओं का कारोबार करने वाले, ट्रांसपोर्ट ऑपरेटर लघु और कुटीर उद्योग सभी शामिल है।
  • इन सबको मुद्रा लोन के तहत ऋण दिया जा सकता है। ताकि यह सभी लोग अपने व्यवसाय को आगे बढ़ा सकें। ऐसा करने से देश की गरीबी तो दूर होगी और हमारा भारतवर्ष और भी आगे बढ़ सकेगा।

मुद्रा बैंक लोन योजना के तहत लोन कैसे मिलेगा?

अगर कोई भी भारतीय नागरिक मुद्रा बैंक लोन लेना चाहता है, तो उससे निम्नलिखित प्रक्रियाओं का पालन करना होगा:

  • मुद्रा बैंक योजना के तहत लोन के लिए अप्लाई करने के लिए सबसे पहले आवेदक को आसपास का बैंक देखना होगा। उससे संबंधित सारी इंटरेस्ट रेट जानकारी लेनी होगी और तब एक एप्लीकेशन फॉर्म भी भरना होगा।
  • एप्लीकेशन फॉर्म को भरकर जरूरी मांगे गए कागजातों और आपके द्वारा शुरू किए जाने वाले व्यवसाय को प्रस्तुत करना होगा।
  • इन सभी के बाद बैंक द्वारा निर्धारित सभी औपचारिकताओं को पूरा करना होगा।
  • जब सभी औपचारिकताएं पूरी हो जाती है, तब आपका ऋण मुद्रा बैंक योजना से मंजूर हो जाएगा।

प्रधानमंत्री मुद्रा ऋण की उपलब्धता

इस योजना के अंतर्गत स्थापित मुद्रा बैंक के द्वारा प्रदान किए जाने वाले ऋण दुकानदारों,सब्जी के ठेले वालों एवं सैलून वालों छोटे कारोबारियों,कुटीर उद्योगों के साथ ही निम्नलिखित के लिए भी उपलब्ध है:

  • वाहन ऋण :- व्यापारिक वाहन ऋण,दुपहिया वाहन ऋण।

  • व्यवसाय क़िस्त ऋण :- आवश्यक कार्यशील पूंजी के लिए प्लांट और मशीनरी खरीदने के लिए ऑफिस या कार्यालय के पूननिर्माण के लिए ऋण दिया जाएगा।

  • व्यवसाय समूह ऋण और ग्रामीण

  • व्यवसाय साख- ओवर ड्राफ्ट,ड्राप लाइन ओवर ड्राफ्ट और कार्यशील पूंजी पर ऋण भी मिलेगा।

मुद्रा योजना के लाभ

आप सब लोगों को लग रहा होगा कि मुद्रा लोन क्या लाभ हो सकता है? आइए हम आपको अपने इस आर्टिकल में इसके लाभ के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे।

  • मुद्रा लोन से कोई भी व्यक्ति बहुत ही आसानी से लोन ले सकेगा।
  • मुद्रा लोन से 1000000 तक का लोन बहुत ही आसानी से लिया जा सकेगा।
  • मुद्रा लोन स्कीम में किसी भी गारंटी की जरूरत नहीं पड़ेगी।
  • मुद्रा लोन से छोटे दुकानदारों को भी लाभ मिलेगा,जो अपने कारोबार को आगे बढ़ाना चाहते हैं।
  • बैंक ऋण देने वाली संस्थाओं को नई तकनीक उपलब्ध कराएगी, जिससे ऋण लेने और देने में बहुत ही आसानी और सुविधा होगी।

मुद्रा बैंक का लक्ष्य

बैंक के लक्ष्य निम्नलिखित हैं:

  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत व्यवसाय के लिए अर्थात छोटे कारोबारियों के लिए एक अच्छी संरचना का निर्माण करना।
  • छोटे उद्योग वित्त पोषण व्यवसाय के लिए नीति और दिशानिर्देशों को निर्धारित करना इसका मुख्य लक्ष्य है।
  • सूक्ष्म वित्तीय संस्थाओं का पंजीकरण करना।
  • सूक्ष्म वित्तीय संस्थाओं का मूल्यांकन करना।
  • अल्प वित्त संस्थाओं को मान्यता प्रदान करना।
  • कुटीर उद्योगों के लिए ऋण प्रदान करने वालों के लिए मानक नियम पत्रों के समूह का विकास करना।
  • ग्राहक सुरक्षा सिद्धांतों और वसूली के नियमों को सुनिश्चित करना।
  • सभी के लिए सही तकनीकी समाधान ओं को बढ़ावा देना इसका मुख्य उद्देश्य है।
  • क्षेत्र में विकास एवं तकनीकी गतिविधियों को समर्थन देना।

मुद्रा बैंक के मुख्य उद्देश्य क्या है?

प्रधानमंत्री योजना के अंतर्गत स्थापित मुद्रा बैंक के मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित है:

  • सभी सूक्ष्म वित्तीय संस्थाओं को पंजीकृत करना और पहली बार प्रदर्शन के स्तर और अधिमान्यता की प्रणाली करना।इससे कर्ज लेने से पहले आकलन और उस एम.एफ.आई तक पहुंचने में मदद मिलेगी, जो उनकी आवश्यकताओं को पूरा करते हो और जिनका पूरा समर्थन सबसे ज्यादा संतोषजनक है। इसमें प्रतियोगिता और प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।इसका फायदा कर्ज लेने वालों को मिल सकता है।
  • सूक्ष्म व्यवसायों को दिए जाने वाले कर्ज के लिए गारंटी देने के लिए साख गारंटी योजना बनाई गई है।
  • वितरित की गई पूंजी की निगरानी, कर्ज लेने और देने की प्रक्रिया में मदद के लिए उचित तकनीक भी उपलब्ध कराए गए हैं।
  • छोटे और सूक्ष्म व्यवसायों को प्रभावी ढंग से छोटे कर्ज प्रदान कराने की प्रभाव प्रणाली विकसित करने के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत उपयुक्त ढांचा तैयार करना है।
  • सूक्ष्म वित्त के ऋणताओ अउ कर्ज को नियमित करना औरसूक्ष्म प्रणाली में नियमन और समावेशी भागीदारी को सुनिश्चित करते हुए उसे स्थायित्व प्रदान करना है।
  • सूक्ष्म वित्त संस्थाओ और छोटे व्यापारियों, फुटकर विक्रेताओं, स्वसहायता समूहों और व्यक्तियों को उधार देने वाली संस्थाओं को वित्त एवं उदार गतिविधियों में सहयोग देना।
  • कर्ज लेने वालों को ढांचागत दिशानिर्देश उपलब्ध कराना, जिन पर अमल करते हुए व्यापार में नाकामी से बचा जा सके या उचित समय पर कदम उठाया जा सके। डिफ़ॉल्ट के केस में बकाया पैसे की वसूली के लिए किस स्वीकार्य प्रक्रिया या दिशा निर्देशों का पालन करना है उसे बनाने में मुद्रा मदद करती है।
  • मानकीकृत नियम पत्र तैयार करना, जो भविष्य में सूक्ष्म व्यवसाय की रीढ़ की हड्डी बनने वाली है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की विशेषताएं क्या-क्या है?

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना की विशेषताएं निम्नलिखित है:

  • इस योजना के तहत छोटे उद्यमियों को कम ब्याज दर पर 50000 से 1000000 की धनराशि तक का ऋण प्रदान किया जा सकता है।
  • केंद्र सरकार मुद्रा योजना पर ₹२०००० करोड़ रूपये का निवेश करेगी जिसके लिए 3000 करोड़ राशि की क्रेडिट गारंटी रखी गई है।
  • मुद्रा बैंक छोटे वित्तीय संस्थानों को प्रदान करेगी ताकि वे प्रधानमंत्री योजना के अंतर्गत छोटे उद्यमियों को ऋण प्रदान कर सके।
  • मुद्रा बैंक पूरे भारत में ५.७७ करोड़ सूक्ष्म व्यापार इकाइयों की मदद करेगी।
  • मुद्रा बैंक योजना का दायरा बढ़ाने के लिए दाल विभाग के विशाल नेटवर्क का प्रयोग भी किया जाएगा।
  • मुद्रा बैंक के अंतर्गत महिलाओं, अनुसूचित जाति/जनजाति के उद्यमियों को ऋण देने में प्राथमिकता दी जाएगी।
  • यह भारत में युवा रोजगार और कौशल को बढ़ावा देना होगा।

प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना के महत्व और लाभ क्या क्या है?

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने छोटे कारोबारियों को व्यवसाय में बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुद्रा बैंक योजना की घोषणा की है, जिसकी शुरुआत वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपने बजट 2015 और 2016 में 20000 करोड कोष और 30,000 करोड रुपए तक गारंटी रखकर की है। यह योजना बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है क्योंकि यह छोटे उद्यमियों को प्रोत्साहन देती है बल्कि विकास को देश के सबसे छोटे स्तर से शुरू भी करती है। इस योजना के प्रमुख लाभ और महत्व नीचे दिए गए कुछ निम्नलिखित प्रकार से है:

  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के जरिए मुद्रा बैंक सूक्ष्म वित्त संस्थानों को पुनर्वित्त प्रदान करेगा।
  • कर्ज देने में एससी-एसटी उद्यमियों को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • मुद्रा योजना के युवा शिक्षित अथवा कुशल कामगारों का विश्वास काफी हद तक बढ़ेगा जो अब प्रथम पीढ़ी के उद्यमी बनने के लिए प्रेरित हो रहे हैं।
  • मौजूदा छोटे कारोबारी भी अपनी गतिविधियों का विस्तार करने में सक्षम हो पाएंगे।
  • मुद्रा बैंक ठेलें और खोमचे वालों को भी ऋण उपलब्ध कराएगी।
  • इस योजना के तहत पापड़,अचार आदि का व्यापार कर रही कारोबारी महिलाओं को भी इस बैंक की ओर से ऋण प्रदान किया जाएगा।
  • प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत छोटी-मोटी दुकान, ब्यूटी पार्लर मैकेनिक दर्जी कुम्हार तथा ऐसा ही छोटा-मोटा धंधा करने वालों को भी ऋण देने का प्रावधान किया गया है।
  • इस प्रकार उपरोक्त सभी योजनाएं प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना के प्रमुख महत्व और लाभ है।

Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi मुद्रा योजना की जानकारी

This Post Has 2 Comments

  1. PrithviNathyadav

    PrithviNathyadav Uchit parasarampur pipra Bhodarr Gonda. Pipra Uttar pradesh 271204

Leave a Reply