प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना द्वारा की गयी एक पहल है। जिसमे १२ करोड़ छोटे और सीमान्त किसान जिनके पास २ हेकटर से काम की जमीन है, उनलोगो को न्यूनतम आय सहायता के रूप में हर वर्ष ६ हज़ार रुपया मिलेगा। १ फरवरी २०१९ को भारत के २०१९ अंतरिम केंद्रीय बजट के दौरान पियूष गोयल द्वारा इस बजट का ऐलान किया गया।

इस योजना का लगत हर वर्ष ७५,००० करोड़ रुपया होगा,जो दिसंबर २०१८ से लागू हो चूका है। ६००० रूपये प्रति वर्ष प्रत्येक पात्र किसान को ३ किश्तों में भुगतान कर दिया जाएगा और सीधे उनके बैंक खाते में जमा करवाया जाएगा।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना क्या है?

यह केंद्र सरकार की एक स्कीम है, जिसका ऐलान १ फरवरी २०१९ को आये बजट में किया गे था। इस स्कीम के अनुसार छोटे और सीमान्त परिवारों को हर साल ६००० रूपये दिए जाते है। ऐसे किसान परिवारों को इस योजना का लाभ उठाना चाहिए, जिनकी कुल जमीन २ हेक्टेयर होती है।

Read More:- Pradhan Mantri Mudra Yojana in Hindi मुद्रा योजना की जानकारी

इस योजना की शुरुआत २०१८ के रवि सीजन में किया गया। सरकार ने इसके लिए २० हज़ार करोड़ रूपये अग्रिम बजटीय प्रावधान करा लिया है, जबकि योजना पर सालाना खर्च ७५ हज़ार करोड़ रूपये आने का अंदाजा लगाया गया है। छोटे किसानो के लिए यह योजना अत्यंत उपयोगी सिद्ध हुई है। बुवाई से ठीक पहले नकदी संकट से परेशान किसानो को इस नगदी से बीज, खाद और अन्य इनपुट की उपलब्धता में सहूलियत मिल जायेगी। इन छोटे किसानों में ज्यादातर किसान तो सीमान्त हैं,जिनका पेट खेती से भरना मुश्किल है।

इस योजना का लाभ २ हेक्टेयर खेती वाली जमीन से काम रकबा वाले किसानो को दिया जाने का प्रावधान किया गया। राज्य सरकारें ऐसे किसानो की जोट के साथ उनकी बैंक खाते और अन्य ब्यौरा केंद्र सरकार को मुहैया कराएगी उसकी पुष्टि के बाद केंद्र सरकार ऐसी किसानों के बैंक खातों में सीधे राशि जमा कराती है। इस योजना की सफलता में डिजिटल प्रणाली की भूमिका अहम् साबित हुई है।

किसानों को किस तरह यह पैसा मिलता है?

किसानो को 2-2 हज़ार रूपये 3 किश्तों में उनके खाते में जमाया कराया जाता है। यह पैसा डायरेक्टर बेनिफिट ट्रांसफर(डीबीटी) के तरह सीधे किसानो के खाते में जमा कर दिया जाता है। डीबीटी से पैसे का आदान-प्रदान की प्रक्रिया पारदर्शी रहती है। साथ ही किसान का बहुत समय बच जाता है।

छोटे और सीमान्त किसानो को इस स्कीम से किस तरह लाभ होता है?

अंदाज़े से इस स्कीम से १२ करोड़ से ज्यादा छोटे और सीमान्त किसानो को फायदा होगा। इस स्कीम से छोटे और सीमान्त किसान खेती-बाड़ी से जुडी अपनी जरूरत पूरी करते है। इससे उनकी फसल अच्छी रहती है और उन्हें ज्यादा लाभ होता है। इसके अलावा उन्हें सूदखोरों से पैसे लेने की जरूरत भी नहीं पड़ती।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लिए पंजीकरण कैसे करें?

देश के इच्छुक लाभार्थी किसान जो इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते है, उन्हें निचे बताये गए विधि का पालन करना चाहिए और इस योजना का लाभ उठाना चाहिए।

  • सबसे पहले आवेदक मनुष्य को योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना पड़ेगा।
  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद, कंप्यूटर स्क्रीन पर होम पेज सामने खुल जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको [Farmers corner] का option दिखाई देगा। इस option पर क्लिक करे, इस option में आपको ३ और option दिखाई देंगे।
  • इनमे से आपको [New Farmer Registration] के ऑप्शन पर क्लिक करना है, इसके बाद आपके सामने नया किसान पंजीकरण फार्म खुल जाएगा।
  • इस फॉर्म में आपको आपका(आवेदक को) आधार नंबर, इमेज कोड भरना होगा तथा पूछी गयी सारी जानकारियों को पूरा करना होगा।
  • सभी जानकारियों को भरने के बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद पंजीकरण फॉर्म का प्रिंटआउट लें, और इसे आने वाले भविष्य के लिए सुरक्षित करें।
  • इस प्रकार से आपका आवेदन पूरा हो जाएगा।

किन कसान परिवारों को इस योजना का लाभ नहीं मिल पाता है ?

प्रधानमंत्री किसान योजना का लाभ निम्नलिखित परिस्थितियों में नहीं मिल पाता है:

  • सरकार ने वर्तमान या पूर्व मंत्री राज्य सभा या लोकसभा का सदस्य नगर निगम के वर्तमान अथवा पूर्व मेयर आदि।
  • अगर परिवार का सदस्य संवैधानिक पद पर रह चूका हो या है।
  • केंद्र या राज्य सरकार के वर्तमान या पूर्व अफसर और कर्मचारी।
  • ऐसे रिटायर्ड कर्मचारी जिनका मासिक 10,000 रूपये से ज्यादा पेंशन मिलता हो।
  • डॉक्टर,इंजीनियर,वकील ,चार्टर्ड अकॉउंटेंट जैसे पेशेवर।

आशा करती हूँ की आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा, और आपके लिए उपयोगी साबित होगा। अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आये तो उसे like और share जरूर करें।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

Leave a Reply