Fastag technology कैसे काम करते हैं

Fastag technology कैसे काम करते हैं?

Fastag technology कैसे काम करते हैं – हेलो दोस्तों, कैसे हो आपलोग? आशा करती हूँ कि ठीक होंगे और अपने अपने घरो पर सही सलामत होंगे। दोस्तों आज का आर्टिकल में मै आपको Fastag क्या है? और कैसे काम करता है इसके बारे पूरी जानकारी बताने वाली हूँ। तो चलिए शुरुआत करते है…

15 फरवरी की आधी रात से National Highway से गुजरने वाले सभी वाहनों पर फास्‍टैग लगाना अनिवार्य हो गया है। इस Technique का इस्तेमाल देशभर के National Highway के Toll Plaza पर होगा।

Fastag technology  कैसे काम करते हैं
Fastag technology कैसे काम करते हैं

आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि इसे कैसे और कहां से लिया जाए? यहां पर हम आपके सभी सवालों का जवाब देंगे।

Fastag Technology क्या है?

Fastag technology एक ऐसा Tag है, जो Toll Plaza पर Toll Tax शीघ्र रूप से वसूली के रूप में उपयोग किया जाता है। 1 दिसंबर से National Highway पर गुजरने वाले सभी वाहनों पर Fastag लगाना अनिवार्य कर दिया गया है।

Fastag Technique का इस्तेमाल करके Toll Plaza पर लगने वाली लंबी लाइन को कम किया जा सकता है और वाहनों पर Fastag लगाने से समय की भी बचत होती है।

अभी इस Fastag technology का इस्तेमाल National Highway पर पडने वाले Toll Plaza पर किया जा रहा है और सरकार की योजना Future में इस Technique का वृहद रूप में उपयोग कराने की है।

सरकार इस पर काम कर रही है और सभी Toll Plaza के लिए निर्देश जारी कर रही है। अभी Fastag चार पहिया वाले वाहनों पर अनिवार्य किया जा रहा है।

जरुरत किसे है?

नए वाहन मालिकों को Fastag technology के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। इस का कारण यह है क‍ि ये Registration के समय पहले से ही उपलब्ध कराए जाएंगे।

Owner को केवल Fastag Account को Active और Recharge करना होगा। हालांकि, आपके पास पुरानी Card है, तो आप उन बैंकों से Fastag खरीद सकते हैं,

जो सरकार के National Electronic Toll Collection (NETC) कार्यक्रम से अधिकृत हैं। इन बैंकों में Syndicate bank, Axis bank, IDFC bank, HDFC bank, State bank of India, ICICI bank, और Equitas bank शामिल हैं। आप Paytm से भी Fastag खरीद सकते हैं।

Fastag कहा से ले?

Fastag technology को किसी भी Point of sale (POS) location पर जाकर bank से Offline खरीदा जा सकता है। हालांकि, लंबी कतारों में लगने और समय बचाने के लिए इसके लिए Online आवेदन करना भी काफी आसान है।

हालांकि, Fastag technology आवेदन करने की प्रक्रिया विभिन्न bank में थोड़ी अलग होती है। फिर भी आवेदन की कुछ Important बातें सभी में समान रहती हैं।

Fastag Technique कैसे काम करते हैं?

Fastag technology तकनीक में RFID यानी Radio- frequency Identification Technique का इस्तेमाल होता है। Fastag को वाहन की विंड स्क्रीन पर लगाया जाता है।

जैसे ही आप किसी National Highway के Toll Plaza से गुजरेंगे तो Toll Plaza पर लगे Fastag Detection Sensor आपके Fastag को आसानी से पढ़ लेंगे और शीघ्र Toll प्राप्त करने की कार्यवाही करेंगे।

इसके बाद आपके खाते से निर्धारित Toll tax की धनराशि की कटौती कर ली जायेगी और आपको Cash payment या Toll Plaza कर्मचारी से रूबरू होने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

Fastag technology की Process बिलकुल ठीक और Fast है इसलिए Future में इस Technique का उपयोग बड़े पैमाने पर किये जाने की संभावना है।

  1. जैसे ही आप की गाड़ी Toll Plaza में Enter करती है, तो सबसे पहले Fastag Scanner आपकी गाड़ी में लगे Fastag को Scan करता है।
  2. फिर उसके बाद Scanner Fastag में लगे Tag ID , LOGOS के आलावा 2 Important Components को भी Scan करता है। जिसको आखो से नहीं देखा जा सकता 2 Components में एक chip और एक एंटीना होता है। चिप में व्हीकल की Details होती है। इसी Details से Toll Fare कितना होगा यह पता चलता है और एंटीना की Help से Scanner details collect करता है।
  3. Scanner पूरी Details System को भेज देता है और Computer में आपके व्हीकल की Details आ जाती है।
  4. ये पूरी Detail Toll Plaza से Acquirer Bank (वो bank जो Toll Plaza की तरफ से काम करेगा) को Send कर दी जाती है।
  5. Acquirer Bank जो Toll Plaza की तरफ से Operate हो रहा है, वो Fastag की Details को check करने की लिए की Fastag Valid है या नहीं NETC Mapper को Forward कर देता है।
  6. NETC Mapper जिसके पास अब तक जारी किये गए सारे Fastag की details होती है वो Acquirer Bank से लायी गयी Fastag technology detail को check करता है और Fastag Valid होने पर Acquirer Bank को बता देता है।
  7. ये Acquirer Bank Fastag Valid है या नहीं ये confirm होने के बाद Amount calculate करता है की कितना Amount लेना है और फिर Debit Request को NETC (National Electronic Toll Collection) के पास भेज देता है।
  8. NETC Debt Request को Issuer बैंक को Forward कर देता है और फिर ये Issuer बैंक Fastag holder या बोला जाये तो गाड़ी के मालिक के पास से Amount Deduct कर लेता है फिर NETC MAPPER को Inform कर देता है।
  9. NETC Mapper , Acquirer Bank को Information forward कर देता है फिर Acquirer Bank Toll Plaza System में ये बता देता है की “Transaction Successful” हो गया फिर Successful होते ही Barrier खुल जायगा और आप आगे अपनी Journey Continue कर सकते है।

Fastag से क्या फायदा होता है?

  • यदि आप अपने वाहन पर Fastag का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको Toll Plaza पर लम्बी लाइन में लगने की जरुरत नहीं होगी।
  • Toll Plaza पर भ्रष्टाचार की संभावना को खत्म किया जा सकता है।
  • Toll Plaza के कर्मचारी से बहस की संभावना खत्म हो जायेगी।
  • आपको नकद पैसा या खुले पैसे रखने की भी चिंता नहीं होगी।
  • आपके लाभदायक समय की भी बचत होगी।

Fastag को कैसे बनवाएं?

Fastag को बनवाने के लिए निम्न निर्धारित process का पालन करें:

  • Fastag बनवाने के लिए आपको Fastag के लिए निर्धारित Application या website पर जाना होगा।
  • वहां पर आप अपना Details भरकर Registration करा सकते हैं।
  • KYC अवश्य पूर्ण करें।
  • अपने वाहन से सम्बन्धित सभी जानकारी को Upload करें।
  • दूसरे दस्तावेज मांगे जाने पर उन्हें upload करें।

इस प्रकार आप Fastag को प्राप्त कर सकते हैं और इसे Online भी research कर सकते हैं। रिचार्ज करने के लिए आपके Fastag खाते का बैंक से लिंक होना आवश्यक नहीं है।

दोस्तों अगर आपको आज का मेरा या Article पसंद आया है, तो Please इसे जरूर Like and Share करें।

Fastag technology कैसे काम करते हैं?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *